आरोपी मुख्तार बाबा की बढ़ी मुश्किलें

आरोपी मुख्तार बाबा की बढ़ी मुश्किलें

कानपुर 3 जून को बेकनगंज थाना क्षेत्र भीतर नयी सड़क पर हुई हिंसा की फंडिग मुद्दे में अरैस्ट आरोपी मुख्तार बाबा की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है कमिश्नरेट पुलिस ने बाबा बिरयानी के मालिक मुख्तार बाबा पर दो और एफआईआर दर्ज की है मुख्तार बाबा के विरूद्ध अब कुल तीन एफआइआर दर्ज हो चुकी है पुलिस ने राम जानकी मंदिर पर कब्ज़ा कर वहां बाबा बिरयानी होटल बनाने के आरोप में केस दर्ज किया है इसके अतिरिक्त दो एफआईआर चमनगंज थाने और एक बजरिया थाने में दर्ज हुई है

गौरतलब है कि क्राउड फंडिंग के मुद्दे में अरैस्ट मुख्तार बाबा 14 दिन की न्यायिक हिरासत में कारागार में बंद है हिंसा की जांच कर रही एसआईटी लगातार उससे पूछताछ कर रही है अब तक जो खुलासा हुआ है उसके अनुसार हिंसा से पहले मुख़्तार बाबा ने मास्टरमाइंड जफर हयात हाशमी के खाते में 5 लाख रुपये ट्रांसफर किए थे इसके अतिरिक्त उसने यह भी बताया कि बाबा होटल पर ही पत्थरबाजों से मीटिंग हुई थी और रणनीति बनी थी एक-एक पथ्थरबाजों को 500 से 1000 रुपये भी दिए गए थे

पंक्चर वाले से करोड़पति बनने का सफर 
1968 में बाबा बिरियानी के संचालक मुख्तार बाबा के पिता मोहम्मद इशहाक अहमद उस समय बने राम जानकी मंदिर के नीचे पंक्चर की छोटी सी दुकान लगाते थे इसके बाद जब मुख्तार बाबा का जन्म हुआ तो उसने भी पिता की दुकान में काम करना प्रारम्भ किया और कुछ दिनों बाद ब्रेड और दूध बेचने का एक छोटा सा काउंटर लगा लिया यह सिलसिला चल ही रहा था कि 1992 में बाबरी विध्वंस के बाद प्रदेश दंगे की आग में जल उठा और फिर उसके बाद मानो मुख्तार बाबा की किस्मत ही खुल गई अपराधियों का गढ़ माने जाने वाले गम्मू खां के हाता में मुख्तार बाबा की नजर पड़ गई

दबंगई और पैंतरेबाजी से बना करोड़पति
कानपुर का मुख्तार बाबा स्वयं को मुख्तार अंसारी से कम नहीं समझता था कहीं दबंगई तो कहीं अपनी पैंतरेबाजी से मुख्तार बाबा ने करोड़पति बनने का यात्रा तय किया मुख्तार बाबा ने गम्मू खां हाते में कई लोगों का घर खाली कराकर 300 वर्ग गज स्थान पर अपना अतिक्रमण जमा लिया और फिर 50-50 वर्ग गज की कटिंग कर प्लॉट बेचने का सिलसिला प्रारम्भ किया और यहीं से मुख्तार बाबा बड़ा आदमी बनता चला गया शहर में एक समय आतंक का पर्याय बने D-2 गैंग की बिरयानी पार्टी मुख्तार बाबा की बिरयानी की दुकान में होती थी, जिसके चलते मुख्तार बाबा का कनेक्शन गैंग के सदस्यों से लेकर मुखिया तक था इन्हीं के सहारे मुख्तार बाबा ने कई संपत्तियों पर दबंगई और गुंडई के बल पर जबरन कम दामों में खरीद कर उनपर अपना अतिक्रमण कर लिया


कमलेश तिवारी की पत्नी को मिला धमकी भरा खत

कमलेश तिवारी की पत्नी को मिला धमकी भरा खत

उदयपुर में कन्हैया लाल की मर्डर के बाद देशभर में हिंदूवादी नेताओं और लोगों को धमकी भरी चिट्ठी मिलने का सिलसिला जारी है राजधानी लखनऊ में कमलेश तिवारी की मर्डर के बाद अब उनकी पत्नी किरण को भी जान से मारने की धमकी मिल रही है शुक्रवार को किरण को उनके कमरे में उर्दू में धमकी भरा लिखा हुआ खत मिला

घर में मिली धमकी भरी चिट्ठी

जानकारी के मुताबिक, किरण को उनके कमरे में उर्दू में लिखा हुआ खत मिला, जिसमें ये लिखा था कि तुम्हारे पति को जहां भेजा है तुमको भी वही पहुंचा देंगे ये चिट्ठी मिलने के बाद किरण तिवारी और उनके बच्चे भय में हैं धमकी भरे पत्र की जानकारी जब पुलिस को मिली तो किरण की सुरक्षा बढ़ा दी गई है बता दें कि लखनऊ के खुर्शीद बाग में 3 वर्ष पहले 18 अक्टूबर 2019 में हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की घर में घुसकर मर्डर कर दी गई थी, जिसके बाद से उनकी पत्नी किरण तिवारी ने संगठन का पदभार संभाला है

पुलिस ने बढ़ाई सुरक्षा

पुलिस का बोलना है की किरन ने इस धमकी भरे पत्र की जानकारी किसी को नहीं दी किरन के कार्यालय के किसी वर्कर ने यह जानकारी किसी दूसरे आदमी को बताई तो यह इंटरनेट पर वायरल हो गया इसका संज्ञान लेकर पुलिस ने किरण से पूछताछ की पत्र की बात ठीक होने पर किरण की सुरक्षा बढ़ाई गई है इसके साथ ही पुलिस ऑफिसरों का बोलना है कि वह पता लगा रहे हैं कि पत्र उनके घर के कमरे तक किसने पहुंचाया

छत्तीसगढ़ के शख्स को मिली जान से मारने की धमकी

गौरतलब है कि उदयपुर मर्डर के बाद अब छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के एक शख्स ने भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नुपुर शर्मा के पक्ष में इंस्टाग्राम पर पोस्ट करने के कारण जान से मारने की धमकी मिलने का आरोप लगाया है पुलिस ने इस संबंध में एक स्त्री समेत दो संदिग्ध लोगों के विरूद्ध मामला दर्ज कर जांच प्रारम्भ कर दी है पुलिस ऑफिसरों ने शनिवार को यह जानकारी दी