अयोध्या स्थित राम की पैड़ी पर स्नान कर रहे दंपति से मारपीट

अयोध्या स्थित राम की पैड़ी पर स्नान कर रहे दंपति से मारपीट

अयोध्या यूपी की धर्मनगरी अयोध्या स्थित राम की पैड़ी पर स्नान कर रहे दंपति से हाथापाई के मुद्दे में अब नया मोड़ आ गया है करणी सेना के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सनी सिंह ने स्वीकार किया है कि करणी सेना के लोगों ने ही राम की पैड़ी पर अश्लील हरकत कर रहे दंपति से हाथापाई की थी पुलिस ने इस मुद्दे में अज्ञात के विरूद्ध मामला दर्ज किया है

करणी सेना के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सनी सिंह ने स्वीकारा है कि 15 जून को दोपहर 3:30 बजे के आसपास राम की पैड़ी पर करणी सेना के लोगों के साथ बैठक कर रहे थे और उसी दरमियान उन्हें पता चला कि राम की पैड़ी में स्नान कर रहे दंपत्ति अश्लील हरकत कर रहे थे सिंह ने बोला कि वहां पर बच्चे और महिलाएं भी थी इस वजह से उन्हें रोका गया टोकने के बाद भी जब वह नहीं मानें तो उनकी पिटाई की गई करणी सेना के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने कहा, ‘आवश्यकता पड़ी तो इस तरह के कदम आगे भी उठाए जाएंगे अयोध्या को गोवा नहीं बनने दिया जाएगा

सनी सिंह ने कहा, ‘घटना 15 जून को शाम 3:30 बजे की है उस दिन करणी सेना की एक आवश्यक बैठक राम की पैड़ी पर थी और इस संपूर्ण मुद्दे में अज्ञात के विरूद्ध केस दर्ज किया गया है अज्ञात के विरूद्ध केस दर्ज करने की जरूरत नहीं है इसकी संपूर्ण जिम्मेदारी करणी सेना लेती है’ सनी सिंह ने बोला कि लगभग 20 मिनट तक राम की पैड़ी में पानी के अंदर दंपति अश्लील हरकत कर रहे थे और उन्हें रोकने का कोशिश किया गया जब वह नहीं मानें तो इस ढंग का कदम उठाना पड़ा और चेतावनी देते हुए उन्होंने फिर बोला है कि यदि आगे भी इस ढंग का मामला होगा तो इस ढंग का कदम करणी सेना उठाएगी

करणी सेना के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने मांग करते हुए बोला कि या तो फिर राम की पैड़ी पर पुलिस की तैनाती हो जो देखे कि इस ढंग की वारदात आगे ना हो यदि इस ढंग की घटना आगे होगी तो जिस ढंग का कदम करणी सेना के लोगों ने उठाया है, हम ऐसा कदम दोबारा उठाएंगे उन्होंने अपील करते हुए बोला कि यहां पर जो भी आए दर्शन पूजन करें उनका सब का स्वागत है, लेकिन ऐसा काम ना करें जिससे कि धार्मिक नगरी की शोभा बिगड़े उन्होंने कहा, यह अयोध्या है इसे अयोध्या ही रहने दें गोवा बनाने का कोशिश ना करें

सनी सिंह ने इसके साथ ही मांग करते हुए बोला कि अज्ञात के विरूद्ध दर्ज किया गया केस वापस हो पुलिस की कार्रवाई पर प्रश्न चिह्न उठाते हुए बोला कि अज्ञात के विरूद्ध हाथापाई का मामला दर्ज किया गया, जबकि पुलिस को चाहिए था कि वह दंपति के विरूद्ध मामला दर्ज करे और उनको बताए कि आप धर्म नगरी में आकर इस ढंग की अश्लील हरकत कर रहे हैं, इसलिए आप के विरूद्ध केस दर्ज किया जा रहा है


विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत ने की मूर्तियां हटाने की मांग

विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत ने की मूर्तियां हटाने की मांग

भगवान शिव की नगरी काशी (Kashi News) में मंदिरों में स्थापित साईं बाबा (Sai Baba) की मूर्तियों पर एक बार फिर संग्राम छिड़ गया है काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत कुलपति तिवारी ने इसे लेकर प्रश्न उठाए हैं और वाराणसी (Varanasi) के मंदिरों से साईं बाबा की मूर्तियों को हटाने की मांग की है

कुलपति तिवारी ने शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का हवाला देते हुए बोला कि उन्होंने साईं बाबा को चांदमिया घोषित कर दिया है, उसके बाद भी लोग उनकी पूजा कर रहे हैं इतना ही नहीं कुलपति तिवारी ने बोला कि वाराणसी के मंदिरों से साईं बाबा की मूर्तियां हटाई जाए वहीं दूसरी तरफ विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत के इस बयान के बाद साईं भक्तों के साथ ही वाराणसी में स्थित साईं मंदिर के प्रबंधक और पुजारियों में नाराजगी है

भगवान से सद्बुद्धि
संत रघुवर नगर क्षेत्र में स्थित साईं मन्दिर के प्रमुख अभिषेक कुमार श्रीवास्तव ने बोला कि इतने बड़े पद पर बैठे किसी भी महंत को किसी के बारे में गलत शब्द नहीं बोलना चाहिए वह कहते हैं, ‘मैं तो भगवान से यही प्रार्थना करूंगा कि भगवान उन्हें सद्बुद्धि दे बाकी भक्तों की आस्था है, वो कभी भी किसी के साथ भी जुड़ सकती है और किसी की भावनाओं से खिलवाड़ नहीं करना चाहिए

कोई नहीं छीन सकता अधिकार
वहीं कुलपति तिवारी के बयान पर साईं भक्तों का बोलना है कि बाबा में उनकी आस्था है, इसलिए वो उनकी पूजा करते हैं और कोई भी उनसे ये अधिकार नहीं छीन सकता है कुल मिलाकर यदि बात करें तो वाराणसी में पूर्व महंत के इस बयान के बाद एक बार फिर साईं बाबा को लेकर मामला गर्म हो गया है