युवाओं के विरोध को लेकर की जा रही चेकिंग के चलते बॉर्डर पर लगा था लंबा जाम

युवाओं के विरोध को लेकर की जा रही चेकिंग के चलते बॉर्डर पर लगा था लंबा जाम

गाजियाबाद के मोदीनगर में अग्निपथ योजना के विरोध में भड़की हिंसा का पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है. पुलिस ने बताया कि केन्द्र गवर्नमेंट की अग्निपथ योजना को लेकर युवाओं को भड़काने की षड्यंत्र में छुट्टी पर आए फौजी का नाम सामने आया है. फौजी ने अपने भाई के साथ मिलकर गांव में युवाओं को इकट्‌ठा कर उन्हें उकसाया था. इसके अलावा, सेना भर्ती में विफल युव‌कों ने भी पंचायत कर युवाओं को उकसाया था. लगातार दो दिन तक सैदपुर और प्रथमगढ़ में पंचायत भी हुई थी.

डीएमई पर पहुंचे युवा पुलिस देख वापस लौटे
युवाओं ने गत सोमवार को डीएमई पर जाम लगाने का कोशिश किया था. पुलिस प्रशासन की सतर्कता के चलते आंदोलन सफल नहीं हो पाया था. पुलिस ने फौजी और उसके भाई सहित कई लोगों के विरूद्ध रिपोर्ट दर्ज कर उनकी तलाश प्रारम्भ कर दी है. ​​​​​​​बता दें कि अग्निपथ योजना के विरोध में युवाओं ने दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर भोजपुर के चुड़ियाला क्षेत्र में गत सोमवार को जाम लगाने का कोशिश किया था. दर्जनों की संख्या में युवा डीएमई पर पहुंचे, मगर वहां पुलिस की मौजूदगी के चलते युवा नारेबाजी करते हुए वापस लौट गए.

युवाओं को गलत जानकारी देकर उकसाया गया
पुलिस जांच में सामने आया कि 19 और 20 जून को गांव प्रथमगढ़ और सैदपुर में पंचायतें हुईं, जिसमें ‌अग्निपथ योजना के बारे में युवाओं को गलत जानकारी देकर उन्हें गुमराह किया गया और योजना के विरोध में आंदोलन करने के लिए उकसाया गया था. इसमें छुट्टी पर आए एक फौजी की मुख्य किरदार सामने आई. युवाओं को उकसाने के ‌मामले में सेना भर्ती में विफल पुरुष भी शामिल रहे. पुलिस को इससे संबंधित कुछ वीडियो हाथ लगे हैं, जिसमें युवाओं को उकसाने की बात की जा रही है.

सीओ ने कहा- जल्द अरैस्ट होंगे आरोपी
सीओ सुनील कुमार सिंह का बोलना है कुछ लोगों ने अग्निपथ योजना के विरोध में गांव सैदपुर और प्रथमगढ़ में पंचायत कर युवाओं का उकसाया. पुलिस को इससे संबंधित साक्ष्य मिले हैं. उकसाने वालों के विरूद्ध रिपोर्ट दर्ज की गई है. इसमें छुट्टी पर आया सेना का एक जवान और उसका भाई भी शामिल है. उसके विरूद्ध भी रिपोर्ट दर्ज की गई है. आरोपी को पकड़ने के लिए दबिश दी गई, मगर वह फरार हो चुका था. सीओ ने बोला कि आरोपियों को जल्द अरैस्ट कर लिया जाएगा.


कंकरखेड़ा में गर्लफ्रेंड को रिंग देने के लिए दिनदहाड़े की 7 लाख रुपये की लूट

कंकरखेड़ा में गर्लफ्रेंड को रिंग देने के लिए दिनदहाड़े की 7 लाख रुपये की लूट

पुलिस लाइन में डकैती के खुलासे की जानकारी देते एसएसपी रोहित सजवान और एसपी अपराध अनित कुमार

मेरठ के कंकरखेड़ा में 28 जून को दिनदहाड़े हुई 7 लाख रुपये की डकैती का पुलिस ने खुलासा कर दिया. मेरठ पुलिस ने डकैती में गाजियाबाद के गैंग को अरैस्ट किया है. तीन बदमाशों के पास से पुलिस ने 3 लाख 36 हजार रुपये, 2 बाइक, 3 मोबाइल बरामद किए हैं.

तीनों युवकों से पूछताछ में पता चला है की यह गैंग अपने शौक पूरा करने के लिए की घटना को अंजाम देता है. गैंग में शामिल संदीप ने पूछताछ में बताया कि अपनी गर्लफ्रेंड के लिए रिंग गिफ्ट करनी थी, जिसके चलते डकैती का प्लान बनाया.

रेलवे स्टेशन पर बनाया गया डकैती का प्लान

कंकरखेडा क्षेत्र में डाबका रोड के पास भारतीय ऑयल का पेट्रोल पंप है. 28 जून की शाम पौने 4 बजे पंप मैनेजर योगेंद्र कुमार अपने साथी के साथ बाइक से 7 लाख रुपये कैश लेकर बैंक में जमा करने पहुंचे थे. पंप से करीब 400 मीटर की दूरी पर 2 बाइकों पर पहुंचे 6 लुटेरों ने मैनेजर की बाइक में साइड मारकर गिराया.

मेरठ पुलिस लाइन की यह फोटो है. डकैती में शामिल तीनों बदमाश पुलिस के साथ

उसके बाद 7 लाख रुपये का बैग लूटकर गोली मारने की धमकी देते हुए फरार हो गए. पकड़े गये युवकों ने बताया कि गाजियाबाद के मोदीनगर में रेलवे स्टेशन पर डकैती की प्लानिंग बनाई गई थी. एक हफ्ते से रैकी भी की गई.

सीसी टीवी कैमरे से पकड़े गये बदमाश

एसएसपी रोहित सजवान और एसपी अपराध अनित कुमार ने शुक्रवार को पुलिस लाइन में प्रेसवार्ता कर घटना का खुलासा किया. एसएसपी ने बताया की कई स्थानों पर पुलिस ने सीसी टीवी फुटेज देखी. जिसके बाद एसओजी, सर्विलांस टीम और थाना पुलिस को डकैती की घटना के लिए लगाया. जहां पुलिस ने डकैती में शामिल तीन बदमाशों को कंकरखेड़ा में हाइवे के पास से अरैस्ट किया है.

पंप के पूर्व कर्मचारी ने कराई रैकी

एसएसपी ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि पूछमाछ में पता चला है की पंप पर काम कर चुके एक कर्मचारी ने डकैती कराने के लिए रैकी कराई थी. इस कर्मचारी ने यशू और संदीप को बताया था की कंकरखेड़ा में पेट्रोल पंप का मैनेजर हर रोज कैश लेकर जाता है. कई बार कार से तो कई बार बाइक से जाता था.

पंप से लेकर कंकरखेड़ा तक बीच में कहीं भी पुलिस नहीं रहती. जिसके बाद संदीप के मन में आया कि यदि कैश डकैती लिया जाए तो शौक भी पूरा हो जाएंगे. डकैती के बाद सभी लुटेरे गंगनहर की पटरी और गांवो के रास्ते मोदीनगर जिला गाजियाबाद में पहुंचे थे.

संदीप की मोदीनगर की है प्रेमिका

गिरफ्तार संदीप और हर्ष शातिर प्रजाति के हैं. संदीप ने पूछताछ में पुलिस को बताया था की मोदीनगर की एक प्रेमिका है. इसी प्रेमिका के शौक पूरा करने के लिए संदीप अपने साथियों के साथ डकैती के लिए उतर आया. संदीप ने बताया की प्रेमिका लंबे समय से गिफ्ट मांग रही थी, जिसे एक रिंग देने का प्रॉमिस किया था. लेकिन उससे पहले ही डकैती में पकड़े गए.

यह हैं अरैस्ट आरोपी

1. हर्ष उर्फ मोगली पुत्र मनोज गुप्ता निवासी कृष्णा कुन्ज कालोनी मोदीनगर जनपद गाजियाबाद.

2. सन्दीप शर्मा पुत्र कैलाश, मोदीनगर जनपद गाजियाबाद.

3. प्रिन्स पुत्र नेपाल सिंह निवासी इन्द्रापुरी, मोदीनगर जनपद गाजियाबाद .

फरार आरोपी

1. प्रिन्स उर्फ दरोगा निवासी ग्राम पट्टी थाना भोजपुर जनपद गाजियाबाद.

2. यशु उर्फ बिलाल निवासी मोहल्ला बेगमाबाद थाना मोदीनगर गाजियाबाद.

3. हिमान्शु उर्फ चैंटा निवासी मोदीनगर गाजियाबाद .