कानपुर हिंसा को लेकर अब तक का सबसे बड़ा खुलासा

कानपुर हिंसा को लेकर अब तक का सबसे बड़ा खुलासा

कानपुरः नुपूर शर्मा के विवादित बयान के बाद शहर में हुई हिंसा के मुद्दे में लगातार नए खुलासे हो रहे हैं 3 जून को हुई हिंसा का पाक कनेक्शन सामने आया है हिंसा का आरोपी अतीक खिचड़ी पाक में किसी से टेलीफोन से संपर्क में था वह घटना के बाद से ही फरार चल रहा है वहीं, एसआईटी की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि हिंसा में मुख्तार बाबा के कर्मचारी भी शामिल थे अतीक खिचड़ी और पाकिस्तानी शख्स के बीच चैट के एक्सक्लूजिव सबूत मिले हैं 

बाबा बिरियानी रेस्टॉरेंट के कर्मचारी SIT की रडार पर 
भीड़ में सबसे आगे रहे पुरुष बाबा बिरियानी रेस्टॉरेंट में काम करते थे बंद के समर्थन में मुख्तार बाबा ने अपनी दुकान बंद कर रखी थी उपद्रव के बाद इंटरनेट में एक वीडियो तेजी से वायरल हुआ था, जिसमें चंद्रेश्वर हाता के सामने खड़ा एक पुरुष भीड़ को बुला रहा था पुरुष के रुमाल लहराने और इशारा करने में के बाद उपद्रव करने वाली भीड़ भी चंद्रेश्वर हाता की तरफ मुड़ गई थी

एसआईटी की जांच में पता चला है कि रुमाल लहराने वाला पुरुष बाबा बिरियानी में काम करने वाला कर्मचारी था मुख्तार ने अपने कर्मचारियों को भीड़ में शामिल कराया और तय योजना के अनुसार भीड़ को चंद्रेश्वर हाता की ओर मोड़ दिया नए खुलासे के बाद में बाबा बिरियानी में काम करने वाले कर्मचारी एसआईटी की रडार पर हैं

सामने आया पाक कनेक्शन
3 जून को जुमे की नमाज के बाद हुए प्रदर्शन के दौरान शहर में हिंसा हुई थी घटना की जांच एसआईटी कर रही है इस दौरान पाकिस्तानी मोबाइल नंबर से अकील खिचड़ी की वार्ता होने की जानकारी सामने आई है जांच में अतीक खिचड़ी और पाकिस्तानी शख्स के बीच चैट के एक्सक्लूजिव सबूत मिले हैं चैट के मुताबिक, हिंसाग्रस्त क्षेत्र में बम लाने को बोला गया था  हिंसा में पाकिस्तानी कनेक्शन सामने आने के बाद ऑफिसरों की नींद उड़ गई है


विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत ने की मूर्तियां हटाने की मांग

विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत ने की मूर्तियां हटाने की मांग

भगवान शिव की नगरी काशी (Kashi News) में मंदिरों में स्थापित साईं बाबा (Sai Baba) की मूर्तियों पर एक बार फिर संग्राम छिड़ गया है काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत कुलपति तिवारी ने इसे लेकर प्रश्न उठाए हैं और वाराणसी (Varanasi) के मंदिरों से साईं बाबा की मूर्तियों को हटाने की मांग की है

कुलपति तिवारी ने शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का हवाला देते हुए बोला कि उन्होंने साईं बाबा को चांदमिया घोषित कर दिया है, उसके बाद भी लोग उनकी पूजा कर रहे हैं इतना ही नहीं कुलपति तिवारी ने बोला कि वाराणसी के मंदिरों से साईं बाबा की मूर्तियां हटाई जाए वहीं दूसरी तरफ विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत के इस बयान के बाद साईं भक्तों के साथ ही वाराणसी में स्थित साईं मंदिर के प्रबंधक और पुजारियों में नाराजगी है

भगवान से सद्बुद्धि
संत रघुवर नगर क्षेत्र में स्थित साईं मन्दिर के प्रमुख अभिषेक कुमार श्रीवास्तव ने बोला कि इतने बड़े पद पर बैठे किसी भी महंत को किसी के बारे में गलत शब्द नहीं बोलना चाहिए वह कहते हैं, ‘मैं तो भगवान से यही प्रार्थना करूंगा कि भगवान उन्हें सद्बुद्धि दे बाकी भक्तों की आस्था है, वो कभी भी किसी के साथ भी जुड़ सकती है और किसी की भावनाओं से खिलवाड़ नहीं करना चाहिए

कोई नहीं छीन सकता अधिकार
वहीं कुलपति तिवारी के बयान पर साईं भक्तों का बोलना है कि बाबा में उनकी आस्था है, इसलिए वो उनकी पूजा करते हैं और कोई भी उनसे ये अधिकार नहीं छीन सकता है कुल मिलाकर यदि बात करें तो वाराणसी में पूर्व महंत के इस बयान के बाद एक बार फिर साईं बाबा को लेकर मामला गर्म हो गया है