शिंदे गुट बोला- बीजेपी संग बनाएंगे सरकार

शिंदे गुट बोला- बीजेपी संग बनाएंगे सरकार

 महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक घमासान के बीच NCP प्रमुख शरद पवार ने बोला कि MVA ने सीएम उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को समर्थन देने का निर्णय किया है उन्होंने बोला कि मेरा मानना ​​है यदि एक बार (शिवसेना) विधायक मुंबई लौट आएंगे तो स्थिति बदल जाएगी साथ ही उन्होंने बोला कि सब जानते हैं, कैसे शिवसेना के बागी विधायकों को गुजरात और फिर असम ले जाया गया हमें उनकी सहायता करने वालों का नाम लेने की आवश्यकता नहीं है…असम गवर्नमेंट उनकी सहायता कर रही है मुझे आगे किसी का नाम लेने की आवश्यकता नहीं है

विधानसभा में होगा फैसला

इसके अतिरिक्त उन्होंने बोला कि बहुमत का निर्णय विधानसभा में होगा वे विधायकों को कहे असम में नहीं मुंबई में निर्णय होगा उन्होंने बोला कि फ्लोर टेस्ट में बहुमत पता चला जाएगा पवार ने गवर्नमेंट की प्रशंसा करते हुए यह भी बोला कि उद्धव ठाकरे ने अच्छा काम किया है पवार ने अपने बयान में यह भी साफ कर दिया कि उनके पास सबका आंकड़ा है

इधर शिंदे गुट गवर्नमेंट बनाने को तैयार

गौरतलब है कि गवर्नमेंट बचाने के इस बयान से एकदम इतर शिंदे गुट के नेता भरत गोगवले ने Zee News से बोला कि उनकी गवर्नमेंट बनना तय है उन्होंने डिप्टी स्पीकर से अगल गुट को मान्यता देने की मांग की है साथ ही उन्होंने बोला कि हम 8 से 10 दिन में गवर्नमेंट बना लेंगे इस बीच उन्होंने बोला कि बीजेपी का समर्थन उन्हें ही मिल रहा है 

शिंदे के पाले में है गेंद!

आपको बता दें कि अभी गेंद पूरी तरह से शिंदे पक्ष के ही पाले में है उन्हें बीजेपी और शिवसेना दोनों ही ओर से अच्छे प्रस्ताव दिए जा रहे हैं शिवसेना नेता संजय राउत ने भी बोला कि यदि सभी विधायक चाहेंगे तो वो महा विकास अघाड़ी (MVA) से बाहर निकलने पर विचार कर सकते हैं इसके अतिरिक्त बीजेपी की ओर से भी उन्हें गवर्नमेंट बनाने के लिए समर्थन का ऑफर दिया जा रहा है


नूपुर शर्मा पर की गई तल्ख टिप्पणियों को वापस लेने की मांग की गई

नूपुर शर्मा पर की गई तल्ख टिप्पणियों को वापस लेने की मांग की गई

नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) को लेकर उच्चतम न्यायालय में एक नयी अर्जी दाखिल की गई है इसमें नूपुर शर्मा पर की गई तल्ख टिप्पणियों को वापस लेने की मांग की गई है इस अर्जी के मुताबिक नूपुर के विरूद्ध टिप्पणी वापस होनी चाहिए ताकि निष्पक्ष सुनवाई हो सके उल्लेखनीय है कि जस्टिस सूर्यकांत की प्रतिनिधित्व वाली बेंच ने शुक्रवार को याचिका पर सुनवाई के दौरान  काफी तल्‍ख टिप्‍पणियां की थीं इसे लेकर आज हुई सुनवाई के दौरान उच्चतम न्यायालय द्वारा की गई टिप्पणीयों को लेकर CJI को पत्र याचिका दी गई सामाजिक कार्यकता अजय गौतम द्वारा CJI को दी गई पत्र याचिका में नूपुर शर्मा के विरूद्ध जस्टिस सूर्यकांत के द्वारा की गई टिप्पणी को वापस लेने की मांग करते हुए बोला कि नुपुर शर्मा को फेयर ट्रॉयल का मौका दिया जाए

जस्टिस सूर्यकांत द्वारा की गई टिप्पणियों का जिक्र करते हुए बोला गया है कि

1 नूपुर शर्मा ही उदयपुर हत्याकांड की उत्तरदायी है

2-वह राष्ट्र में आग के लिए उत्तरदायी है

3- उन्हें बिना शर्त TV  के सामने माफी मांगनी चाहिए थी

4- शर्मा ने राष्ट्र के विशेष समुदाय की धार्मिक भावनाओं को आहत किया

5- राष्ट्र में जो कुछ भी हुआ नूपुर शर्मा ही सिर्फ उसके लिए उत्तरदायी है

6- दिल्ली पुलिस नूपुर शर्मा को अरैस्ट करने में असफल रही

7- राष्ट्र भर में होने वाली घटनाओ के लिए वह अकेले ही उत्तरदायी है

8- नूपुर शर्मा की मामूली जुबान ने पूरे राष्ट्र को झकझोर कर रख दिया है

9- नूपुर का गुस्सा उदयपुर की दुर्भाग्यपूर्ण घटना के लिए उत्तरदायी है

इसके अतिरिक्त गौतम ने बोला है कि नूपुर शर्मा को जान को खतरा है इसलिए उनके विरूद्ध दर्ज सभी मामलों का दिल्ली ट्रांसफर किया जाए उच्चतम न्यायालय के वकील अजय गौतम ने इस बारे में लेटर पेट‍िशन दाख‍िल  की है उन्‍होंने इसे लेकर उच्चतम न्यायालय के चीफ जस्टिस से गुहार लगाई है उन्‍होंने बोला है कि निष्पक्ष सुनवाई के लिए नूपुर के विरूद्ध जस्टिस सूर्यकांत और पारदीवाला की मौखिक ट‍िप्‍पणी वापस होनी चाहिए गौतम का बोलना है कि कोर्ट का मौखिक टिप्पणी करना मुकदमा को प्रभावित करता है