सीएम पुष्कर धामी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से की मुलाकात

सीएम पुष्कर धामी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से की मुलाकात

चंपावत उपचुनाव में मिली रिकॉर्ड जीत के बाद उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी पहली बार दिल्ली दौरे पर हैं यहां वे पार्टी के अनेक बड़े नेताओं मुलाकात कर रहे हैं दिल्ली में उन्होंने पीएम मोदी से मुलाकात की और उपचुनाव में मिली जीत पर आशीर्वाद लिया उसके अतिरिक्त उत्तराखंड के GST प्रतिपूर्ति , पिथौरागढ़ एयरपोर्ट, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मा एंड रिसर्च आदि मुद्दो को लेकर चर्चा हुई इसके अतिरिक्त सीएम 24 जून को एनडीए की राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के नामांकन में भी शामिल होंगे इसके साथ-साथ सीएम गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मुलाकात करेंगे

मुख्यमंत्री पुष्कर धामी दोपहर 1 बजे पीएम आवास 7 लोक कल्याण मार्ग पहुंचे और तकरीबन 1 घंटे तक उनकी पीएम से मुलाकात हुई मुलाकात में सीएम ने पीएम से चंपावत उपचुनाव में मिली जीत पर आशीर्वाद लिया और उनका धन्यवाद दिया मुलाकात के बाद सीएम ने बताया पीएम के आशीर्वाद से उपचुनाव में ऐतिहासिक जीत मिली है इसी के लिए पीएम से मिल उनका आशीर्वाद लिया है इसके साथ ही टीएसडीसी इण्डिया लिमिटेड हिंदुस्तान गवर्नमेंट का उपक्रम उत्तराखंड में है उसमें 75 फीसदी और 25 फीसदी की अंशधारिता है इसी आधार पर परसेंटेज राज्य को भी मिले इसको लेकर मांग की गई साथ ही GST कंपनसेशन के रूप में लगभग 5 हजार करोड़ उत्तराखंड को मिलता है उसे जारी रखा जाए

हरिद्वार के विस्तारीकरण को लेकर भी मांग
वहीं मुख्यमंत्री धामी ने पीएम से मांग की कि उत्तराखंड में बहुत सी फार्मा कंपनियां हैं इसलिए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मा एजुकेशन और रिसर्च इंस्टीट्यूट बनना चाहिए साथ ही पिथौरागढ़ में शीघ्र से शीघ्र हवाई सेवाएं शीघ्र से प्रारम्भ करने के लिए पीएम से निवेदन किया कुंभ नगरी हरिद्वार का विस्तारीकरण मास्टर प्लान के अनुसार हो इसका निवेदन पीएम से किया वहीं चारधाम की तरह ही कुमाऊ मंडल मानस माला परियोजना बनाने को भी आग्रह किया गया साथ ही अलकनंदा पर बाबला नंदप्रयाग परियोजना को जल्द प्रारम्भ करने की भी मांग की गई इस दौरान मुख्यमंत्री धामी ने करप्ट ऑफिसरों को लेकर भी अपने कठोर रुख को साफ कर दिया उन्होंने आईएएस रामविलास यादव की गिरफ्तारी को लेकर बोला कि करप्शन पर गवर्नमेंट की जीरो टॉलरेंस नीति है और जो भी गलत करेगा उसे छोड़ा नहीं जाएगा


नूपुर शर्मा पर की गई तल्ख टिप्पणियों को वापस लेने की मांग की गई

नूपुर शर्मा पर की गई तल्ख टिप्पणियों को वापस लेने की मांग की गई

नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) को लेकर उच्चतम न्यायालय में एक नयी अर्जी दाखिल की गई है इसमें नूपुर शर्मा पर की गई तल्ख टिप्पणियों को वापस लेने की मांग की गई है इस अर्जी के मुताबिक नूपुर के विरूद्ध टिप्पणी वापस होनी चाहिए ताकि निष्पक्ष सुनवाई हो सके उल्लेखनीय है कि जस्टिस सूर्यकांत की प्रतिनिधित्व वाली बेंच ने शुक्रवार को याचिका पर सुनवाई के दौरान  काफी तल्‍ख टिप्‍पणियां की थीं इसे लेकर आज हुई सुनवाई के दौरान उच्चतम न्यायालय द्वारा की गई टिप्पणीयों को लेकर CJI को पत्र याचिका दी गई सामाजिक कार्यकता अजय गौतम द्वारा CJI को दी गई पत्र याचिका में नूपुर शर्मा के विरूद्ध जस्टिस सूर्यकांत के द्वारा की गई टिप्पणी को वापस लेने की मांग करते हुए बोला कि नुपुर शर्मा को फेयर ट्रॉयल का मौका दिया जाए

जस्टिस सूर्यकांत द्वारा की गई टिप्पणियों का जिक्र करते हुए बोला गया है कि

1 नूपुर शर्मा ही उदयपुर हत्याकांड की उत्तरदायी है

2-वह राष्ट्र में आग के लिए उत्तरदायी है

3- उन्हें बिना शर्त TV  के सामने माफी मांगनी चाहिए थी

4- शर्मा ने राष्ट्र के विशेष समुदाय की धार्मिक भावनाओं को आहत किया

5- राष्ट्र में जो कुछ भी हुआ नूपुर शर्मा ही सिर्फ उसके लिए उत्तरदायी है

6- दिल्ली पुलिस नूपुर शर्मा को अरैस्ट करने में असफल रही

7- राष्ट्र भर में होने वाली घटनाओ के लिए वह अकेले ही उत्तरदायी है

8- नूपुर शर्मा की मामूली जुबान ने पूरे राष्ट्र को झकझोर कर रख दिया है

9- नूपुर का गुस्सा उदयपुर की दुर्भाग्यपूर्ण घटना के लिए उत्तरदायी है

इसके अतिरिक्त गौतम ने बोला है कि नूपुर शर्मा को जान को खतरा है इसलिए उनके विरूद्ध दर्ज सभी मामलों का दिल्ली ट्रांसफर किया जाए उच्चतम न्यायालय के वकील अजय गौतम ने इस बारे में लेटर पेट‍िशन दाख‍िल  की है उन्‍होंने इसे लेकर उच्चतम न्यायालय के चीफ जस्टिस से गुहार लगाई है उन्‍होंने बोला है कि निष्पक्ष सुनवाई के लिए नूपुर के विरूद्ध जस्टिस सूर्यकांत और पारदीवाला की मौखिक ट‍िप्‍पणी वापस होनी चाहिए गौतम का बोलना है कि कोर्ट का मौखिक टिप्पणी करना मुकदमा को प्रभावित करता है